आज के दौर में लोग जीना भूल गए है, जिसका परिणाम स्वरुप आज की मानसिक हालत को देख कर लगाया जा सकता है | जहाँ आज किसी के पास किसी के लिए थोडा भी वक़्त नही होता है | शहरी क्षेत्र में ये हालात और भी बद्तर है | जिंदगी को सिर्फ काम से ही जोड़ा जाता है | इसलिए कहा गया है की शारीरिक स्‍वास्‍थ्‍य से ज्‍यादा महत्‍वपूर्ण मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य हो गया है | अगर आप मानसिक रूप से परेशान होते हो, तो इसका सीधा असर आपके स्वास्थ पर पड़ता है | इस कारण व्‍यक्ति जानलेवा बीमारियों से ग्रसित हो जाता है। ये बात कई  वैज्ञानिक रिसर्च में साबित भी हो चुकी है कि शरीर की ज्‍यादातर बीमारियों का कारण तनाव और निराशा है। जो व्यक्ति की उम्र कम कर देता है | लेकिन आप अपनी जीवनशैली को बदलकर इस समस्या से निधान पा सकते है | हम यहाँ कुछ ऐसे ही उपाय लेकर आये है, जिसे अपनाकर कोई भी व्यक्ति अपने जीवन को स्वस्थ बना सकता है | और कई बिमारियों से बचा जा सकता है |

World Mental Health Day

अपना ख्‍याल रखें

भोजन हमारे शरीर में ईंधन की तरह काम करता है। इसलिए नियमित खाने से हमारे शारीर को ज़रूरी पोषक तत्व मिलते है | भोजन से ही मस्तिष्क भी बेहतर कार्य कर पाता है। खाना खाते वक़्त इस बात का भी ध्यान रखे कि उसे चबाकर खाया जाए | इससे हमारे शारीर को पर्याप्त ऑक्सीजन मिलता है, और शारीर की पाचन क्रिया सही रहती है | खाने में हरी सब्जियां और फल को भरपुर रूप से शामिल करें | ज्यादा मिर्च मसाले वाले खाने से बचें |

एक्‍सरसाइज

एक्‍सरसाइज करना सेहत के लिए बहुत लाभकारी होता है | इसलिए रोजाना आधा घंटा का व्यायाम अपने दिनचर्या में जोड़े | अगर आपके काम में मानसिक तनाव ज्यादा है तो रोज़ सुबह उठकर टहलने जाया करें और नंगे पैर हरी घास पर टहले | ये तनाव दूर करने में आपकी मदद करेगा |

मेडीटेशन

सुबह उठकर मेडीटेशन करें, इससे आपका तनाव बिलकुल दूर हो जायेगा | मेडीटेशन करने से हमारे शारीर को एकत्रित होने का अवसर मिलता है | जिससे हम अपना ध्यान अपनी ओर खिंच पाते है | और इससे हमारे शारीर को ऑक्सीजन भी मिलता है |

पर्याप्‍त नींद

सोने का आपके मानसिक स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव पड़ता है। जब हम अच्छी और पर्याप्त नींद लेते हैं तो हम तनाव पर अच्छी तरह काबू पा सकते हैं, ध्‍यान केंद्रित कर पाते हैं और सकारात्मक सोच पाते हैं। आपको कितनी नींद चाहिए यह आपके अपने शरीर पर निर्भर करता है। यदि आप दिनभर में नींद महसूस नहीं करते हैं तो समझ लीजिए कि आपने पूरी नींद ली है।

सकारात्मक सोच

किसी भी कार्य को लेकर यह न सोचें कि केवल बुरा ही होगा न ही यह कि केवल अच्छा होगा। सकरात्मक सोचते हुए जो भी होगा उसे स्वीकारने की हिम्मत रखें। आप कैसे दिखते हैं, या कोई आपको पसंद करता है या नहीं, इन सब बातों की परवाह न करें। लोग सूरत से नहीं सीरत से प्रभावित होते हैं। नकारात्‍मक सोच वालों से दूर रहें।

शौक को न करें नजरअंदाज

चाहें जितने भी व्यस्त हों लेकिन अपने शौक को जरूर पूरा करें। उसके लिए समय जरूर निकालें। ऐसा करने से आप मानसिक रूप से भी खुद को तरोताजा महसूस करते हैं। मस्तिष्क में फील गुड हार्मोन का स्त्राव होता है जिससे आपकी मेंटल हेल्थ पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता हैं।

समस्या को स्वीकार करें

अगर आप किसी बुरी स्थिति में फंस गए है, तो इससे दूर भागने के बजाय इसके लिए समाधान प्राप्त करने की कोशिश करें । आपकी समस्याओं को सकारात्मक रूप से स्वीकार करना आपको भविष्य में मुश्किल परिस्थितियों का सामना करने के लिए काफी मजबूत बना देगा।

Popular Searches : mental health day 2017, World Mental Health Day, World Mental Health Day 2017, world health day 2017, world mental day 2017, stress free life tips, living a stress free life tips, happy and stress free life, creating a stress free life, stress free college life, diet for stress free life, tips for stress free life, advice for stress free life, guide to a stress free life, key to a stress free life, maintaining stress free life